इन खरीद-बिक्री के लिए अनिवार्य कर दिया गया है PAN Card, न होने पर होगी मुश्किल

इन खरीद-बिक्री के लिए अनिवार्य कर दिया गया है PAN Card, न होने पर होगी मुश्किल

PAN Card आयकर विभाग द्वारा जारी किया जाता है। परमानेंट अकाउंट नंबर (PAN) कार्ड एक बार बनने के बाद आजीवन मान्‍य होता है भले ही आपका एड्रेस क्‍यों न बदलता रहे। कर चोरी और कालेधन पर लगाम लगाने के लिए आयकर विभाग ने कई आर्थिक लेनदेन के लिए पैन कार्ड को अनिवार्य कर दिया है। अगर आपके पास पैन कार्ड नहीं है तो आपको इसके बदले फॉर्म 60 देना होगा। आज हम आपको बताएंगे कि किन-किन ट्रांजेक्‍शंस के लिए पैन कार्ड जरूरी है। 

PAN Card, न होने पर होगी मुश्किल
PAN Card, न होने पर होगी मुश्किल
आज हम आपको बताएंगे कि किन-किन ट्रांजेक्‍शंस के लिए पैन कार्ड जरूरी है।
नई दिल्‍ली, बिजनेस डेस्‍क। PAN Card आयकर विभाग द्वारा जारी किया जाता है। परमानेंट अकाउंट नंबर (PAN) कार्ड एक बार बनने के बाद आजीवन मान्‍य होता है भले ही आपका एड्रेस क्‍यों न बदलता रहे। कर चोरी और कालेधन पर लगाम लगाने के लिए आयकर विभाग ने कई आर्थिक लेनदेन के लिए पैन कार्ड को अनिवार्य कर दिया है। अगर आपके पास पैन कार्ड नहीं है तो आपको इसके बदले फॉर्म 60 देना होगा। आज हम आपको बताएंगे कि किन-किन ट्रांजेक्‍शंस के लिए पैन कार्ड जरूरी है। 
अगर आप कोई वाहन खरीद या बेच रहे हैं तो आपको पैन कार्ड देना होगा। इसी प्रकार, बैंक में खाता खुलवाने के लिए भी पैन कार्ड जरूरी है। अगर आप डीमैट खाता खुलवाने जा रहे हैं तब भी पैन कार्ड देना होगा। इसके अलावा, अगर आप 50,000 रुपये अधिक का नकद लेनदेन (होटल या रेस्‍टोरेंट) एक बार में करते हैं तो आपके पास पैन कार्ड होना जरूरी है। 
अगर आप विदेश यात्रा पर जा रहे हैं तो ट्रैवल या विदेशी मुद्रा की खरीदारी से जुड़े 50,000 रुपये से अधिक के एकमुश्‍त लेनदेन के लिए आपको पैन कार्ड देना होगा। अगर आप 50,000 रुपये से अधिक का म्‍युचुअल फंड, डिबेंचर्स, बॉन्‍ड आदि खरीदते हैं तब भी आपको पैन कार्ड देना होगा। अगर आप बैंक में 50,000 रुपये अधिक नकद जमा करते हैं या एक दिन में बैंक ड्राफ्ट या पे ऑर्डर या बैंकर्स चेक के लिए 50,000 रुपये से अधिक कैश देते हैं तो पैन देना होगा। 
फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट की राशि अगर 50,000 रुपये अधिक है तो पैन कार्ड जरूरी है। इसके अलावा, कुल मिलाकर अगर आपका फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट एक वित्‍त वर्ष में 5 लाख रुपये अधिक है तो आपको पैन कार्ड देना होगा। किसी भी प्रीपेड इंस्‍टूमेंट के लिए अगर आप एक वित्‍त वर्ष में 50,000 रुपये से अधिक का भुगतान करते हैं या जीवन बीमा प्रीमियम के तौर पर एक वित्‍त वर्ष में 50,000 रुपये से अधिक का प्रीमियम देते हैं तो आपके पास पैन कार्ड होना जरूरी है।
शेयरों के अलावा अगर आप एक बार में एक लाख रुपये से अधिक की सिक्‍योरिटी खरीदते हैं या वैसी कंपनी के शेयरों की खरीद-बिक्री एक बार में एक लाख रुपये से ज्‍यादा का करते हैं तो किसी स्‍टॉक एक्‍सचेंज पर लिस्‍टेड नहीं है तो आपको पैन कार्ड देना होगा। 
अगर आप 10 लाख रुपये अधिक कीमत वाली अचल संपत्ति खरीदते हैं या कोई ऐसी वस्‍तु या सेवा जिसकी चर्चा ऊपर नहीं की गई है और उसकी लेनदेन की राशि दो लाख रुपये से अधिक है तो आपको पैन कार्ड देना होगा।

The PAN Card is issued by the Income Tax Department. Once the Permanent Account Number (PAN) card is created, it is valid for lifetime even if your address does not change. To curb tax evasion and black money, the Income Tax Department has made PAN card mandatory for many economic transactions. If you do not have a PAN card, you will have to give Form 60 instead. Today we will tell you that for which transactions PAN card is necessary.

If you are buying or selling a vehicle, you will have to provide a PAN card. Similarly, PAN card is also necessary for opening an account with a bank. Even if you are going to open a demat account, PAN card will still have to be given. Apart from this, if you do a cash transaction (hotel or restaurant) of more than Rs 50,000 at a time, then you must have a PAN card.

If you are going on a trip abroad, you will need to provide a PAN card for a one-time transaction of more than Rs 50,000 for travel or foreign currency purchases. Even if you buy mutual funds, debentures, bonds etc. worth more than Rs 50,000, you will still have to provide a PAN card. If you deposit more than Rs 50,000 cash in the bank or if you give more than Rs 50,000 cash in a day for bank draft or pay order or bankers check, then PAN has to be given.

If the fixed deposit amount is more than Rs 50,000, then PAN card is necessary. Apart from this, if your fixed deposit is more than 5 lakh rupees in a financial year, then you will have to provide PAN card. For any prepaid instrument, if you pay more than Rs 50,000 in a financial year or as a life insurance premium over Rs 50,000 in a financial year, then you must have a PAN card.

Apart from shares, if you buy a security of more than one lakh rupees at a time, or if you buy or sell shares of the same company for more than one lakh rupees at a time, then you are not given a PAN card if you are not listed on any stock exchange. Will happen.

If you buy an immovable property worth more than Rs 10 lakh or any item or service which is not discussed above and its transaction amount is more than Rs 2 lakh, then you have to provide a PAN card.

अगर PAN Card नहीं है तो क्‍या करें?


अगर आपके पास पैन कार्ड नहीं है तो आयकर विभाग के नियमों के अनुसार आप उपरोक्‍त लेनदेन के लिए फॉर्म 60 दे सकते हैं। इसमें यह लिखा होता है कि आपके पास पैन कार्ड नहीं है और आपकी आय कर सीमा से कम है। 

पैन कार्ड के बदले आधार कार्ड

1 सितंबर 2019 से आयकर विभाग ने पैन कार्ड धारकों को यह अनुमति दी है कि अगर उनके पास पैन नहीं है तो वे आधार नंबर दे सकते हैं। इसका इस्‍तेमाल आप न सिर्फ आयकर रिटर्न दाखिल कर सकते हैं बल्कि उपरोक्‍त लेनदेन भी कर सकते हैं। इसके लिए आपका पैन कार्ड आधार कार्ड से लिंक्‍ड होना चाहिए। 

इन खरीद-बिक्री के लिए अनिवार्य कर दिया गया है PAN Card
From 1 September 2019, the Income Tax Department has given permission to PAN card holders that they can give Aadhaar number if they do not have PAN. You can use this not only to file income tax returns but also to do the above transactions. For this, your PAN card must linked to the Aadhaar card.
Posted By: Kvs24News | Vivek Tiwari

Post a comment

0 Comments