पीएम मोदी 100 मिनट लगातार बोले, भाषण में सीएए-एनआरसी से लेकर नेहरू तक का जिक्र , PM Modi in Rajya Sabha LIVE

पीएम मोदी 100 मिनट लगातार बोले, भाषण में सीएए-एनआरसी से लेकर नेहरू तक का जिक्र , PM Modi in Rajya Sabha LIVE

पीएम मोदी ने अपने भाषण में कहा कि देश ने देख लिया है कि दल के लिए कौन है और देश के लिए कौन है। जब बात निकली है तो दूर तलक जानी चाहिए। किसी को प्रधानमंत्री बनना था, इसलिए हिंदुस्तान में लकीर खींची गई और हिंदुस्तान का बंटवारा कर दिया गया।
PM Modi in Rajya Sabha LIVE

PM Modi in Rajya Sabha LIVE

बजट सत्र के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति के अभिभाषण पर लाए गए धन्यवाद प्रस्ताव पर लोकसभा में भाषण दिया। इस दौरान पीएम मोदी करीब 100 मिनट तक लगातार बोले और सीएए, एनआरसी और बजट समेत सभी मुद्दों पर अपनी राय रखी। उन्होंने पीएम मोदी ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। साथ ही उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की चिट्ठी का भी जिक्र किया।


पीएम मोदी ने अपने भाषण में कहा कि देश ने देख लिया है कि दल के लिए कौन है और देश के लिए कौन है। जब बात निकली है तो दूर तलक जानी चाहिए। किसी को प्रधानमंत्री बनना था, इसलिए हिंदुस्तान में लकीर खींची गई और हिंदुस्तान का बंटवारा कर दिया गया।

उन्होंने कहा कि पांच नवंबर 1950 को इसी संसद में नेहरू जी ने कहा था कि इसमें कोई संदेह नहीं हैं कि जो प्रभावित लोग भारत में बसने के लिए आए हैं, ये नागरिकता मिलने के अधिकारी हैं और अगर इसके लिए कानून अनुकूल नहीं हैं तो कानून में बदलाव किया जाना चाहिए। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि इतने दशकों के बाद भी पाकिस्तान की सोच नहीं बदली है, वहां आज भी अल्पसंख्यकों पर अत्याचार हो रहे हैं, इसका ताजा उदाहरण ननकाना साहिब में देखने को मिला। ये केवल हिंदू और सिखों के साथ नहीं बल्कि वहां जो अन्य अल्पसंख्यक हैं, उनके साथ भी यही हो रहा है।

कांग्रेस से सवाल पूछते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, 'नेहरू जी इनते बड़े विचारक थे, फिर उन्होंने उस समय वहां के अल्पसंख्यकों की जगह, वहां के सारे नागरिक को समझौते में शामिल क्यों नहीं किया? जो बात हम आज बता रहे हैं, वही बात नेहरू जी की भी थी. क्या पंडित नेहरू कम्युनल थे?'

पीएम मोदी ने नेहरू-लियाकत समझौता का किया उल्लेख
प्रधानमंत्री मोदी ने अपने भाषण में कहा कि 1950 में नेहरू-लियाकत समझौता हुआ, जो भारत-पाकिस्तान में रहने वाले अल्पसंख्यकों के संरक्षण के लिए हुआ। इस समझौते में धार्मिक अल्पसंख्यकों का जिक्र हुआ था। उन्होंने कहा कि नेहरू जी इनते बड़े विचारक थे, फिर उन्होंने उस समय वहां के अल्पसंख्यकों की जगह, वहां के सारे नागरिक को समझौते में शामिल क्यों नहीं किया? जो बात हम आज बता रहे हैं, वही बात नेहरू जी की भी थी।

सीएए से हिंदुस्तान के किसी भी नागरिक पर कोई प्रभाव नहीं पड़ने वाला: पीएम
नागरिकता कानून पर बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस की दिक्कत ये हैं कि वो बाते करती है, झूठे वादे करती है और दशकों तक उन वादों को टालती रहती है। आज हमारी सरकार अपने राष्ट्र निर्माताओं की भावनाओं पर चलते हुए फैसले ले रही है, तो इनकों दिक्कत हो रही है। उन्होंने कहा कि मैं फिर से इस सदन के माध्यम से बड़ी जिम्मेदारी के साथ स्पष्ट कहना चाहता हूं कि सीएए से हिंदुस्तान के किसी भी नागरिक पर कोई प्रभाव नहीं पड़ने वाला। चाहे वो मुस्लिम हो, हिंदू हो, सिख हो या अन्य किसी धर्म को मानने वाला हो |



 PM Modi in Rajya Sabha LIVE : 

राज्‍यसभा में पीएम नरेंद्र मोदी गुरुवार शाम राष्‍ट्रपति के अभिभाषण पर धन्‍यवाद ज्ञापन दिया। इससे वह लोकसभा में राष्‍ट्रपति के अभिभाषण पर धन्‍यवाद ज्ञापन दे चुके हैं।  
पीएम मोदी ने कहा, ये नया भारत आगे बढ़ चला है। ये कर्तव्य पथ पर चल पढ़ा है। और कर्तव्य में ही सारे अधिकारों का सार है, ये खुद गांधी जी कह गए हैं। आइए, हम गांधी जी के बताए कर्तव्य पथ पर आगे बढ़ते हुए, एक समृद्ध, समर्थ और संकल्पित नए भारत के निर्माण में जुट जाएं।
 
पीएम मोदी ने कहा, राजनीतिक कारणों से एनपीआर का विरोध गरीबों को कल्याणकारी योजनाओं के लाभ से वंचित करेगा। सभी राज्यों ने एनपीआर को मंजूरी दे दी थी लेकिन कुछ ने अब राजनीतिक कारणों से यू-टर्न ले लिया है। 
पीएम मोदी ने कहा, जनगणना और एनपीआर सामान्य गतिविधियां है जो देश में पहले भी होती रही हैं। लेकिन जब वोटबैंक राजनीति की मजबूरी हो, तो खुद एनपीआर को 2010 में लाने वाले आज लोगों में भ्रम फैला रहे हैं।
पीएम मोदी ने कहा, इस दशक में दुनिया की भारत से बहुत अपेक्षाएं हैं और भारतीयों को हमसे बहुत अपेक्षाएं हैं। इन अपेक्षाओं की पूर्ति के लिए हम सभी के प्रयास 130 करोड़ भारतवासियों की आकांक्षाओं के अनुरूप होने चाहिए। 
पीएम मोदी ने कहा, मुझे नहीं लगता कि 1947 में कांग्रेस सांप्रदायिक थी और अचानक धर्मनिरपेक्ष हो गई। आप पाकिस्तान से आने वाले सभी समुदायों को लिख सकते थे। आपने 'गैर-मुस्लिम' शब्द का इस्तेमाल क्यों किया ?


पीएम मोदी ने कहा, 2003 में लोक सभा में नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship amendment Bill) प्रस्तुत किया गया। Citizenship Amendment Bill 2003 पर जिस Standing Committee of Parliament ने चर्चा की और फिर उसे आगे बढ़ाया, उस कमेटी में कांग्रेस के अनेक सदस्य आज भी यहां बैठे हैं।


पीएम मोदी ने कहा, जहां तक ईस्ट पाकिस्तान का ताल्लुख है, उसका ये फैसला मालूम होता है कि वहां से नॉन मुस्लिम जितने हैं, सब निकाल दिए जाएं, वो एक इस्लामिक स्टेट है, इस्लामिक स्टेट के नाते वो सोचता है कि वहां इस्लाम को मामने वाले ही रह सकते हैं। गैर इस्लामी लोग नहीं रह सकते हैं। अब आप उन्हें भी कम्युनल कह देंगे, उन्हें भी आप डिवाडर कह देंगे। ये बयान शास्त्री जी ने संसद में 3 अप्रैल 1964 को दिया था। 


पीएम मोदी ने कहा, कांग्रेस की मजबूरी समझ आती है, लेकिन केरल के लेफ्ट फ्रंट के हमारे मित्रों को समझना चाहिए कि केरल के मुख्यमंत्री ने प्रदर्शनकारियों पर कड़ी कार्रवाई की बात भी कही है। 
पीएम मोदी ने कहा कि सीएए को लेकर जो कुछ भी कहा जा रहा है, उसको लेकर सभी साथियों को खुद से सवाल पूछना चाहिए। देश को misinform करने और misguide करने की प्रवर्त्ती को हमें रोकना चाहिए। 


पीएम मोदी ने कहा, सदन में CAA पर चर्चा हुई है। यहां बार-बार ये बताने की कोशिश की गई कि अनेक हिस्सों में प्रदर्शन के नाम पर अराजकता फैलाई गई, जो हिंसा हुई, उसी को आंदोलन का अधिकार मान लिया गया। 


पीएम मोदी ने कहा, बीते 5 वर्षों से देश के आदिवासी सेनानियों को सम्मानित करने का काम किया जा रहा है। आदिवासियों ने देश की आजादी के लिए जो काम किया है उसके संबंधित म्यूजियम बनें, रिसर्च संस्थान बने, उसे लेकर भी काम किया जा रहा है। आदिवासी बच्चों के लिए एकलव्य मॉडल स्कूल बनाने का काम किया है। 


पीएम मोदी ने कहा, हमारे आदिवासी बच्चों में कई होनहार बच्चे होतें हैं, लेकिन अवसर नहीं होता है। हमने एकलव्य स्कूलों के द्वारा ऐसे बच्चों को अवसर देने का बहुत बड़ा काम किया है। 

पीएम मोदी ने कहा UDAAN योजना के तहत, हमने हाल ही में भारत में 250 वां मार्ग शुरू किया है। परिवर्तन की गति खगोलीय रही है। हमारे पास 65 परिचालन हवाई अड्डे थे और आज हमारे पास 100 से अधिक हैं। हमने सिर्फ सरकार को नहीं बदला है, हमने दृष्टिकोण और कार्य करने के तरीके को भी बदल दिया है।  

पीएम मोदी ने कहा, हमारे लिए सभी घरों तक साफ पानी पहुंचाना सुनिश्चित करने का एक मिशन है। 

पीएम मोदी ने कहा, अगर हम बदलाव की बात करते हैं, तो कभी कहा जाता है कि बार बार बदलाव क्यों? हमारे महापुरुषों ने इतना महान संविधान दिया, उसमें भी उन्होंने सुधार की व्यवस्था रखी है। हर व्यवस्था में सुधार का हमेशा स्वागत होना चाहिए। 

पीएम मोदी ने कहा,  आज छोटे स्थानों पर डिजिटल ट्रांजैक्शन सबसे ज्यादा देखने को मिल रहा है और आधुनिक इन्फ्रास्ट्रक्चर के निर्माण में भी टियर-2, टियर-3 शहर आगे बढ़ रहे हैं। आज रेलवे, हाइवे की पूरी श्रंखला है | 

पीएम मोदी ने कहा,  गुजरात के सीएम के रूप में मैंने तत्कालीन वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी से कहा था कि वे जीएसटी लागू करने से पहले विनिर्माण राज्यों की चिंताओं को दूर करें। अरुण जेटली ने जीएसटी लागू करने से पहले उन चिंताओं को संबोधित किया। पीएम के रूप में मैंने उन मुद्दों को हल किया जो मैंने सीएम के रूप में उठाए थे। 

पीएम मोदी ने कहा,  जीएसटी भारत के फेडरल स्ट्रक्चर का एक बहुत बड़ा achievement है। अब राज्यों की भावनाओं का उसमें प्रकटीकरण होता है। हमारा मत है कि जहां समयानुकूल परिवर्तन आवश्यक हैं, परिवर्तन करने चाहिए। 

पीएम मोदी ने कहा,  जीएसटी को लेकर अगर इतना ही ज्ञान आपके पास था तो इसे लटकाए क्यों रखा था। 

पीएम मोदी ने कहा, कोई भी देश छोटी सोच से आगे नहीं बढ़ सकता, हमारी युवा पीढ़ी हमसे अपेक्षा करती है कि हम बड़ा सोचें, दूर का सोचें, ज्यादा सोचें और ज्यादा ताकत से आगे बढ़ें। इसी मूल मंत्र को लेकर हम देश को आगे बढ़ाने का प्रयास कर रहे हैं। 

पीएम मोदी ने कहा,  निराशा देश का भला कभी नहीं करती, इसलिए 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी की बात का सुखद परिणाम यह हुआ कि जो विरोध करते हैं, उन्हें भी 5 ट्रिलियन डॉलर की बात करनी पड़ती है। मानसिकता तो बदली है हमने।  

पीएम मोदी ने कहा,  यहां अर्थव्यवस्था के विषय में चर्चा हुई। देश में निराश होने का कोई कारण नहीं है। अर्थव्यवस्था के जो बेसिक मानदंड है, उनमें आज भी देश की अर्थव्यवस्था सशक्त है, मजबूत है और आगे जाने की ताकत रखती है। 

पीएम मोदी ने कहा,  नार्थ ईस्ट में कांग्रेस और उनके मित्र दलों की सरकारें थीं। आप चाहते तो उनकी समस्य़ा पर सुखद समाचार आप ला सकते थे। इतने वर्षों के बाद उनकी समस्याओं का स्थाई समाधान करने में हम सफल हुए हैं। 

पीएम मोदी ने कहा,  करीब 25-30 साल से ब्रू जनजाति की समस्या से सभी वाकिफ हैं। ये अनिश्चितता की जिंदगी जी रहे थे, तीन दशकों तक वे यातनाएं सह रहे थे और उनका गुनाह कुछ नहीं था।  

पीएम मोदी ने कहा,  मैं Update करना चाहूंगा कि नार्थ-ईस्ट अभूतपूर्व शांति के साथ आज भारत की विकास यात्रा का एक अग्रिम भागीदार बना है। 40-50 साल से वहां जो हिंसक आंदोलन चलते थे, आज वो आंदोलन बंद हुए हैं और शांति की राह पर पूरा नार्थ-ईस्ट आगे बढ़ रहा है। 

पीएम मोदी ने कहा,  ब्रू शरणार्थियों की दुर्दशा दयनीय थी। फिर भी जिस पार्टी ने पूर्वोत्तर के अधिकांश हिस्सों पर दशकों तक शासन किया और दशकों से त्रिपुरा पर राज करने वाली पार्टी ने इस समस्या के बारे में कुछ नहीं किया। यह हमारी सरकार थी जिसे इस बड़ी समस्या को हल करने का सम्मान प्राप्त था। 

पीएम मोदी ने कहा,  नार्थ ईस्ट अभूतपूर्व शांति के साथ आज भारत की विकास यात्रा का एक अग्रिम भागीदार बना है। 40-50 वर्षों से नॉर्थ ईस्ट में हिंसक आंदोलन चलते थे, लेकिन आज वो आंदोलन समाप्त हुए हैं और शांति की राह पर नॉर्थ ईस्ट आगे बढ़ रहा है।  

पीएम मोदी ने कहा,  5 अगस्त 2019 का दिन आतंक और अलगाव को बढ़ावा देने वालों के लिए ब्लैक डे सिद्ध हो चुका है। 

पीएम मोदी ने कहा, जम्मू-कश्मीर में पीएम आवास योजना के तहत मार्च 2018 तक सिर्फ 3.5 हजार मकान बने थे। 2 साल से भी कम समय में  इसी योजना के तहत 24 हजार से ज्यादा मकान बने हैं। 

पीएम मोदी ने कहा, सिर्फ 18 महीनों में जम्मू-कश्मीर में डेढ़ लाख बुजुर्गों और दिव्यांगों को पेंशन योजना से जोड़ा गया है। पीएम मोदी ने कहा,  18 महीनों में जम्मू-कश्मीर में 2.5 लाख शौचालयों का निर्माण हुआ, 3 लाख 30 हजार घरों में बिजली का  कनेक्शन दिया गया। 3.5 लाख से ज्यादा लोगों को आयुष्मान योजना के गोल्ड कार्ड दिए जा चुके हैं। 

पीएम मोदी ने कहा, पहली बार जम्मू-कश्मीर में एंटी करप्शन ब्यूरो की स्थापना हुई, पहली बार वहां अलगाववादियों के सत्कार की परंपरा समाप्त हो गई। पहली बार जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों के खिलाफ पुलिस और सेना मिलकर निर्णायक कार्रवाई कर रहे हैं। 

पीएम मोदी ने कहा,  दशकों बाद पहली बार जम्मू और कश्मीर के लोगों को आरक्षण का लाभ मिला। बीडीसी चुनाव हुए, रेरा अस्तित्व में आया। पहली बार, जम्मू और कश्मीर को एक व्यापक स्टार्ट-अप, व्यापार और रसद नीति मिली। 

पीएम मोदी ने कहा, क्या हमारे पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह ने यह नहीं कहा कि तेलंगाना मुद्दे पर विरोध के कारण लोकतंत्र को नुकसान हो रहा है? अटल जी ने एक नहीं बल्कि तीन राज्य बनाए। पूरी प्रक्रिया सौहार्दपूर्ण तरीके से की गई थी, इसके विपरीत तेलंगाना के निर्माण के दौरान क्या हुआ था, हम सभी जानते हैं। 

पीएम मोदी ने कहा,  लोग आसानी से चीजों को नहीं भूलते हैं। मैं राज्यसभा में विपक्ष के नेता को याद दिलाना चाहता हूं कि तेलंगाना के निर्माण को लेकर कार्यवाही किस तरीके से हुई थी। 

पीएम मोदी ने कहा, एक सांसद ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के फैसले बिना किसी चर्चा के हुए। यह अवलोकन सही नहीं है। पूरे राष्ट्र ने इस विषय पर विस्तृत चर्चा की है। सांसदों ने फैसले के पक्ष में मतदान किया। पीएम मोदी ने कहा, नए दशक में, नए कलेवर की जो अपेक्षा थी, उससे मुझे निराशा मिली है। आप जहां थे, वहीं ठहर गए हैं।  लोकसभा में पीएम मोदी ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा कि आपके लिए गांधीजी ट्रेलर हो सकते हैं लेकिन हमारे लिए गांधी जिंदगी हैं। 

पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्रपति ने न्यू इंडिया के लिए विजन पर प्रकाश डाला। उनका संबोधन ऐसे समय आता है जब हम सदी के तीसरे दशक में प्रवेश करते हैं। राष्ट्रपति का अभिभाषण आशा की भावना पैदा करता है और भविष्य में देश को आगे ले जाने के लिए एक रोडमैप प्रस्तुत करता है। पीएम मोदी ने राष्ट्रपति का धन्यवाद किया। 

पीएम मोदी ने  विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा- एक स्वर ये उठा है कि सरकार को सारे कामों की जल्दी क्या है? हम सारे काम एक साथ क्यों कर रहे हैं? हम भी आप लोगों के रास्ते पर चलते, तो शायद 70 साल के बाद भी इस देश से अनुच्छेद 370 नहीं हटता, आपके ही तौर तरीके से चलते, तो मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक की तलवार आज भी डराती।

राहुल गांधी बोले- 'डंडे' पढ़ने वाले हैं, मोदी ने जवाब दिया- 'सूर्य नमस्‍कार' कर पीठ मजबूत करूंगा

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने दिल्‍ली चुनाव प्रचार के दौरान एक सभी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को डंडे मारने की बात कही थी। पीएम मोदी ने आज राहुल को इसका जवाब संसद में दिया।
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने दिल्‍ली चुनाव प्रचार के दौरान एक सभी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को डंडे मारने की बात कही थी। पीएम मोदी ने आज राहुल को इसका जवाब संसद में दिया। राहुल गांधी ने कहा था- ये जो नरेंद्र मोदी भाषण दे रहे हैं, 6 महीने बाद ये घर से बाहर नहीं निकल पाएंगे। हिंदुस्तान के युवा इनको ऐसा डंडा मारेंगे, इनको समझा देंगे कि हिंदुस्तान के युवा को रोजगार दिए बिना ये देश आगे नहीं बढ़ सकता। राहुल गांधी ने ये बात हौज रानी में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कही थी।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा का उत्तर देते हुए राहुल गांधी को करारा जवाब दिया। उन्‍होंने तंज कसते हुए कहा, 'मैंने छह महीने में डंडे मारने की बात एक कांग्रेस नेता के मुंह से सुनी है। इसलिए अब मैं सूर्य नमस्‍कार करने की संख्‍या बढ़ा दूंगा, ताकि डंडे खाने के लिए अपनी पीठ को मजबूत कर सकूं। मेरी पीठ डंडों की मार को बर्दाश्‍त करने के लायक हो जाए। 
इससे पहले पीएम मोदी ने कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी पर चुटकी लेते हुए कहा कि जब भी मैं (लोकसभा में कांग्रेस के नेता) अधीर रंजन चौधरी जी को देखता और सुनता हूं, मैं किरेन रिजिजू जी को बधाई देता हूं...। रिजिजू द्वारा लॉन्च किए गए फिट इंडिया आंदोलन को अधीर जी बहुत अच्छी तरह प्रमोट करते हैं। वह अपने भाषण देते हुए जिमिंग भी करते हैं।
संसद के बजट सत्र के छठे दिन आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति के अभिभाषण पर लाए गए धन्यवाद प्रस्ताव पर लोकसभा में बोले। इस दौरान उन्‍होंने केंद्र सरकार की कई उपब्धियों को जिक्र किया। जम्‍मू कश्‍मीर से अनुच्‍छेद 370 हटाना, भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था, बोडो जनजाति से हुए समझौते और पीएम-किसान योजना जैसे विषयों को उठाया।

पीएम मोदी ने अधीर रंजन पर कसा तंज, सुनाया- साधु, मौलवी और पहलवान का किस्सा

पीएम मोदी एक बार फिर रंग में दिखे और विपक्षी नेताओं खासकर कांग्रेस नेता अधीर रंजन और राहुल गांधी पर जमकर कटाक्ष किया।
लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण प्रस्ताव पर जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर रंग में दिखे और विपक्षी नेताओं, खासकर कांग्रेस नेता अधीर रंजन और राहुल गांधी पर जमकर कटाक्ष किया। अधीर पर तो मोदी के तीर कुछ ज्यादा ही चले। मोदी ने अधीर की भाषण शैली को फिट इंडिया मूवमेंट से ही जोड़ डाला। 
भाषण के दौरान अधीर पर मोदी के शब्द तीरों का सिलसिला आगे भी जारी रहा। मोदी ने 'अधीर पर 'खा रबड़ी कर कसरत' के तंज के लिए ट्रेन में साधु, मौलवी, पलवान का किस्सा सुनाया। मोदी ने कहा कि कल यहां स्वामी विवेकानंद के कंधों से बंदूकें फोड़ी गईं। आपने रेकॉर्ड से निकाल दिया है, इसलिए जिक्र नहीं करूंगा। एक बार कुछ लोग रेल में सफर कर रहे थे। रेल जैसे गति पकड़ती थी, तो पटरी से आवाज आती थी।  
वहां बैठे हुए एक संत महात्मा बोले कि देखो पटरी में से कैसी आवाज आ रही है। यह बेजान पटरी भी हमें कह रही है- प्रभु कर दे बेड़ा बार। दूसरे संत ने कहा कि मैंने सुना नहीं। मुझे तो यह सुनाई दे रहा है- प्रभु तेरी लीला अपरंपार। वहां बैठे मौलवी ने कहा कि उन्हे दूसरा ही सुनाई दे रहा है। उसने कहा मैं सुन रहा हूं- अल्लाह तेरी रहमत। तभी वहां मौजूद पहलवान ने कहा कि मुझे तो सुनाई दे रहा है- खा रबड़ी कर कसरत। खा रबड़ी कर कसरत

Post a comment

0 Comments