बेहद घातक हैं राफेल में लगने वाले हथियार, लगी हैं ऐसी मिसाइलें जो पलभर में पलट सकती हैं बाजी

Rafale fighter jet firepower Image Source : INDIA TV

नई दिल्ली: राफेल लड़ाकू विमान इसी महीने भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल हो जाएंगे। बताया गया है कि जुलाई के अंत तक पांच राफेल विमानों का बेड़ा भारत पहुंच जाएगा और अगर मौसम ठीक रहा तो 29 जुलाई को अंबाला एयरफोर्स स्टेशन पर इन्हें वायुसेना में शामिल कर लिया जाएगा। इसके शामिल होने के बाद भारतीय वायुसेना की ताकत कई गुना तक बढ़ जाएगी।

राफेल का मतलब होता है तूफान। इसे फ्रांसीसी कंपनी दसॉल्ट एविएशन द्वारा बनाया गया है। यूरोपीय मिसाइल निर्माता MBDA ने ऐलान किया है कि भारत के लिए खास तौर पर तैयार किए गए अत्याधुनिक 36 राफेल विमान मीका, मीटियोर और स्काल्प मिसाइलों से लैस होंगे। इन मिसाइलों की बेजोड़ मारक क्षमता से वायुक्षेत्र में भारतीय वायुसेना का दबदबा हो जाएगा।

लक्ष्य को बिना देखे तबाह करने में मीटियोर की कोई दूसरी मिसाल नहीं

लक्ष्य को बिना देखे तबाह करने में मीटियोर मिसाइल की दुनिया में कोई दूसरी मिसाल नहीं है। मीटियोर मिसाइल को BVR की अगली पीढ़ी की मिसाइल (BVRAAM) कहा जाता है। कंपनी ने इस घातक मिसाइल को यूरोपीय देश ब्रिटेन, जर्मनी, इटली, फ्रांस, स्पेन और स्वीडन के सामने उपस्थित खतरों को ध्यान में रखकर तैयार किया है। 

इसका अर्थ यह भी है कि यह मीटियोर मिसाइल एशिया में भारत के अलावा किसी और देश के पास नहीं होगी। एडवांस सक्रिय रडार से निर्देशित होने वाली यह मिसाइल हर मौसम में हर किस्म के लक्ष्य को भेद सकती है। 

हवा से मार करने वाली लंबी दूरी की मिसाइल है स्काल्प
स्काल्प हवा से मार करने वाली लंबी दूरी की मिसाइल है। यह जमीन पर स्थिर और बड़े ठिकानों को पूरी तरह से तबाह करने में अचूक है। पूर्व नियोजित बड़े हमलों के लिए यह उत्तम मिसाइल है। स्काल्प मिसाइल ब्रिटेन की रॉयल एयरफोर्स और फ्रांस की वायुसेना का हिस्सा रही है। इस मिसाइल का इस्तेमाल खाड़ी युद्ध में भी किया गया था। नवनियुक्त वायुसेना प्रमुख राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने पिछले हफ्ते ही कहा था कि पड़ोसी देशों का मुकाबला करने के दौरान यह भारतीय वायुसेना की ताकत में अत्यधिक इजाफा करेंगे।

हवा से हवा में मार करने वाली मल्टी-मिशन मिसाइल माइका
माइका (MICA) हवा से हवा में मार करने वाली मल्टी-मिशन मिसाइल है। यह दुनिया की इकलौती मिसाइल है जिसमें सक्रिय रडार और इमेजिंग इन्फ्रारेड की विशेषता है, जो लक्ष्य को बिना देखे तबाह करने से लेकर लंबे समय तक क्लोज-इन डॉगफाइट को कवर कर सकते हैं। माइका की खास कुबियों के कारण इसे "साइलेंट किलर" का भी नाम दिया गया है।

इसके अलावा भारत को मिलने वाले राफेल विमानों में कुछ ऐसी खूबियां भी हैं, जो भारत सरकार ने वायुसेना की जरूरतों के आधार पर सिर्फ अपने देश के लिए हासिल की हैं। यानी अन्य देशों के लिए बाद में बनाए जाने वाले राफेल विमानों को उन सुविधाओं से लैस नहीं किया जाएगा। भारत और फ्रांस के बीच हुए सौदे में यह शर्त सबसे अहम है। खास भारत के लिए राफेल को जिन युद्धक क्षमताओं से लैस किया गया है, उसमें इजरायली हेलमेट के उभार वाले डिस्प्ले, कई रडार वार्निग रिसीवर, कई लो बैंड जैमर, दस घंटे तक की फ्लाइट डाटा रिकार्डिग, इंफ्रा-रेड सर्च और ट्रैकिंग सिस्टम भी शामिल हैं।



from India TV Hindi: india Feed https://ift.tt/3hyB7I5

Post a comment

0 Comments