'मन की बात' कार्यक्रम के 72वें संस्करण को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने एक बार फिर लोगों से की अपील : Mann ki Baat

Mann ki Baat: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस समय मन की बात कार्यक्रम के जरिए देश को संबोधित कर रहे हैं। इस बार पीएम नरेंद्र मोदी का ये कार्यक्रम किसान आंदोलन के बीच हो रहा है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने रविवार (27 दिसंबर) को मन की बात (Mann Ki Baat) कार्यक्रम के जरिए देशवासियों को संबोधित किया और लोगों से स्वदेशी प्रोडक्ट इस्तेमाल करने की अपील की. मन की बात कार्यक्रम के 72वें संस्करण को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने एक बार फिर लोकल प्रोडक्ट को बढ़ावा देने की बात की और कहा कि आज 'वॉकल फॉर लोकल' घर-घर में गूंज रहा है. ऐसे में अब यह सुनिश्चित करने का समय है कि हमारे प्रोडक्ट्स विश्वस्तरीय हों.

लोकल प्रोडक्ट अपनाने की अपील

पीएम मोदी ने कहा, 'साथियो, हमें Vocal4Local की भावना को बनाए रखना है, बचाए रखना है और बढ़ाते ही रहना है. आप हर साल नये साल का संकल्प का संकल्प लेते हैं और इस बाद एक संकल्प अपने देश के लिए भी जरुर लेना है. हमारा देश 2021 में सफलताओं के नए शिखर छुएं, दुनिया में भारत की पहचान और सशक्त हो, इसकी कामना से बड़ा और क्या हो सकता है ।

मन की बात (Mann ki Baat) कार्यक्रम के जरिए देश को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने कहा, 'मेरे प्यारे देशवासियों, नमस्कार. आज 27 दिसंबर है और चार दिन बाद ही 2021 की शुरुआत होने जा रही है. आज की मन की बात एक प्रकार से 2020 की आखिरी मन की बात है.' उन्होंने कहा, 'साथियो, मेरे सामने आपकी लिखी ढेर सारी चिट्ठियां हैं. Mygov पर जो आप सुझाव भेजते हैं, वो भी मेरे सामने हैं कितने ही लोगों ने फोन करके अपनी बात बताई है. ज्यादातर संदेशों में, बीते हुए वर्ष के अनुभव, और, 2021 से जुड़े संकल्प हैं.'

देश के लिए रिजॉल्यूशन लेने की अपील

मन की बात कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा, 'देश के लोगों ने मजबूत कदम उठाया, मजबूत कदम आगे बढ़ाया है. आज 'वॉकल फॉर लोकल' घर-घर में गूंज रहा है. ऐसे में अब यह सुनिश्चित करने का समय है कि हमारे प्रोडक्ट्स विश्वस्तरीय हों. साथियों, हमें 'वॉकल फॉर लोकल' की भावना को बनाए रखना है, बचाए रखना है और बढ़ाते ही रहना है. आप हर साल न्यू ईयर रिजॉल्यूशन लेते हैं और इस बार एक रिजॉल्यूशन अपने देश के लिए भी जरुर लेना है.'


पीएम ने सुनाई गुरु गोविंद के बेटों की कहानी

अपने संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने गुरु गोविंद सिंह के बेटों से जुड़ी एक कहानी सुनाई. उन्होंने कहा, 'आज के ही दिन गुरु गोविंद जी के पुत्रों, साहिबजादे जोरावर सिंह और फतेह सिंह को दीवार में जिंदा चुनवा दिया गया था. अत्याचारी चाहते थे कि साहिबजादे अपनी आस्था छोड़ दें और महान गुरु परंपरा की सीख छोड़ दें. लेकिन, हमारे साहिबजादों ने इतनी कम उम्र में भी गजब का साहस दिखाया और इच्छाशक्ति दिखाई. दीवार में चुने जाते समय, पत्थर लगते रहे और दीवार ऊंची होती रही. मौत सामने मंडरा रही थी, लेकिन, फिर भी वो टस-से-मस नहीं हुए.'


'देश में 60 फीसदी बढ़ी तेंदुओं की संख्या'

संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि पिछले कुछ सालों में देश के अंदर शेरों की संख्या बढ़ी है और तेंदुओं की संख्या भी 60 फीसदी बढ़ी है. उन्होंने बताया, '2014 में देश में तेंदुओं की संख्या लगभग 7900 थी, वहीं 2019 में इनकी संख्या बढ़कर 12852 हो गई है. इस दौरान भारतीय वनक्षेत्र में भी बढ़ावा हुआ है. देश के अधिकतर राज्यों में, विशेषकर मध्य भारत में तेंदुओं की संख्या बढ़ी है. तेंदुए की सबसे अधिक आबादी वाले राज्यों में, मध्य प्रदेश, कर्नाटका और महाराष्ट्र सबसे ऊपर हैं. यह एक बड़ी उपलब्धि है.'

देखें वीडियो





Post a comment

0 Comments