भारत बायोटेक ने दी चेतावनी, ये लोग भूलकर भी न लगवाएं 'कोवैक्सीन' | Breaking News in Hindi & Live Updates Kvs24News

भारत बायोटेक ने सोमवार को फैक्टशीट के माध्यम से ऐसे लोगों को कोवैक्सीन का टीका नहीं लगवाने की सलाह दी है, जिन्हें कुछ समय से एलर्जी, बुखार, ब्लीडिंग डिसऑर्डर की शिकायत रही हो, साथ ही जिनकी प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है या दवाई ले रहे हैं या फिर जिसका प्रतिरक्षा प्रणाली पर असर हो सकता है।

 कंपनी की वेबसाइट पर अपलोड किए गए एक बयान में कहा गया है कि कोवैक्सीन का टीका गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए भी वर्जित है। साथ ही जिन्होंने दूसरी वैक्सीन ली है, या फिर किसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं, वे भी कोवैक्सीन का टीका न लें।

भारत बायोटेक ने दी चेतावनी, ये लोग भूलकर भी न लगवाएं 'कोवैक्सीन'

इसके पहले, सरकार की ओर से एक बयान में कहा गया था कि जिन मरीजों में इम्यूनिटी कमजोर है, उनको भी कोविड टीका लग सकता है। हालांकि, वैक्सीन के ट्रायल के दौरान ऐसे लोगों पर असर अपेक्षाकृत कम देखा गया है। आमतौर पर कीमोथेरेपी करा रहे कैंसर के मरीज, एचआईवी पॉजिटिव लोग और स्टेरॉयर्ड लेने वाले लोग इम्यूनो-सप्रेस्ड होते हैं यानी इनकी इम्यूनिटी कमजोर होती है।ऐसे रोगियों में संक्रमण का खतरा अधिक होता है।

 
कहा, साइड इफेक्टर की संभावना बहुत कम 

भारत बायोटेक ने अपनी फैक्टशीट में ये भी सुझाव दिया कि अगर कोवैक्सीन की खुराक लेने के बाद किसी में कोविड-19 से संक्रमित होने के लक्षण दिखते हैं, तो आरटी-पीसीआर टेस्ट कराना होगा। भारत बायोटेक ने वैक्सीन की संभावित प्रतिकूल घटनाओं और वैक्सीन के लिए योग्य लोगों का विवरण देते हुए यह फैक्टशीट जारी किया है। इसमें कहा गया है कि इसका बहुत ही कम संभावना है कि कोवैक्सीन से सांस लेने में कठिनाई, चेहरे/गले की सूजन/ तेजी से दिल धड़कना, पूरे शरीर में चकत्ते और कमजोरी सहित एलर्जी की गंभीर प्रतिक्रिया पैदा हो सकती हैं।

अगर कोई साइड इफेक्ट दिखे, तो तुरंत जानकारी दें 

फैक्टशीट में कहा गया है कि अगर कोवैक्सीन लेने के कुछ घंटों में आपको कोई साइड इफेक्ट दिखे या कोविड के लक्षण समझ में आए, तो तुरंत वैक्सीन लगाने वाले को इसकी जानकारी दें। अगर वैक्सीन लेने के पहले और बाद में आपने किसी वजह से कोई दवा ली हो, तो उसकी भी सही और साफ जानकारी दें। फैक्टशीट के मुताबिक, कोवैक्सीन के लगाए जाने पर अगर किसी लाभार्थी को कोई स्वास्थ्य संबंधी समस्या होती है अथवा वैक्सीन का प्रतिकूल प्रभाव पड़ता तो उसे सरकारी अस्पताल में देखरेख की सुविधा मुहैया कराई जाएगी। इतना ही नहीं, गंभीर प्रतिकूल घटना के लिए मुआवजा भी प्रदान किया जाएगा।

Post a comment

0 Comments